ऐसे बनाएं अर्जुन के पेड़ की छाल का काढ़ा, दिल से लेकर पेट तक को रखता है दुरुस्त

Share Now To Friends!!

पेड़-पौधे न सिर्फ प्रकृति को फायदा पहुंचाते हैं बल्कि यह इंसानों के लिए भी बहुत लाभदायक होते हैं. कई पेड़ पौधे इंसानों के लिए औषधि (Medicine) का काम करते हैं. इन पेड़-पौधों के विभिन्न अंगों का सेवन करने से शरीर से कई प्रकार की बीमारियां दूर भागती हैं. ऐसा ही एक पेड़ है अर्जुन (Arjuna Tree). इस पेड़ पर लगने वाले फल और इसकी छाल के औषधीय गुण जान लेंगे तो आप हैरान हो जाएंगे. अर्जुन के पेड़ की छाल का काढ़ा बनाकर पीने से हार्ट हेल्दी रहता है. साथ ही यह इम्यूनिटी को भी मजबूत बनाता है. यह हड्डियों के लिए भी बहुत फायदेमंद है.

इसका फल खाने से एसिडिटी और गैस की समस्या नहीं होती. अर्जुन की छाल से कफ, पित्त, सर्दी-खांसी और मोटापे की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है. आयुर्वेद में अर्जुन के पेड़ और फल को दिव्य औषधि माना जाता है. आइए जानते हैं इसके फायदे और कैसे करें इसका सेवन.

इसे भी पढ़ेंः अस्थमा के रोगी जरूर खाएं ये चीजें, अटैक से बचने के लिए ऐसा रखें अपना डाइट प्लान

अर्जुन पेड़ की छाल के फायदे

-आयुर्वेद के अनुसार अर्जुन के पेड़ की छाल से बना काढ़ा पीने से हार्ट हेल्दी रहता है.

-हृदय और रक्तवाहिनियों में आई शिथिलता को दूर करने के लिए भी यह फायदेमंद है.

-एसिडिटी की समस्या में अर्जुन का फल फायदेमंद माना जाता है.

-आयुर्वेद में अर्जुन के पेड़ की छाल के काढ़े को कार्डियक टॉनिक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है.

-पीलिया में इस पेड़ की छाल का चूर्ण बनाकर उसका घी के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है.

-हड्डियों में दर्द होने पर भी इस पेड़ की छाल का चूर्ण दूध से लेने पर फायदा मिलता है.

-अर्जुन की छाल से कफ, पित्त, सर्दी-खांसी और मोटापे की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंः कोरोना काल में एक कप ‘दाल का पानी’ ऐसे करेगा आपका बचाव, नहीं होंगी ये समस्याएं

ऐसे करें सेवन

अर्जुन के पेड़ की 10-15 ग्राम छाल को कूटकर उसे 300 ग्राम पानी में मिला लें. जब यह मिश्रण पककर एक चौथाई रह जाए तो इसे छानकर सुबह और शाम इसका सेवन करें. इससे हार्ट हेल्दी रहता है. यह दिल की धड़कनों को कंट्रोल में रखता है और सीने में दर्द में भी राहत मिलती है. कहते हैं कि भारत में अर्जुन के पेड़ का विभिन्न बीमारियों के खिलाफ करीब 3000 साल से भी ज्यादा समय से इस्तेमाल किया जा रहा है. इसके सेवन से पेट संबंधी बीमारियां भी दूर होती हैं. हालांकि आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करना चाहिए. विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भावस्था, डायबिटीज और सर्जरी होने के तुरंत बाद इसका सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment