खदान में अचानक मजदूर के हाथ लगा बेशकीमती पत्थर, झट से हो गया अरबों का फायदा

Share Now To Friends!!

दुनिया में सबसे बड़े हीरे की खोज साउथ अफ्रीका में की गई थी जिसे बाद में कई टुकड़ों में तोड़कर बेचा गया

बोत्सवाना (Botswana) में स्थित जवानेंग खदान (Jwaneng mine) दुनिया भर में मशहूर है. इस खदान से आजतक कई बेशकीमती पत्थर (Expensive Minerals) मिले हैं. अब ताजा खबरों के मुताबिक़, इस खदान से एक मजदूर को दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा (Worlds Third Largest Diamond) मिला है.

दुनिया में कई माइन्स (Mines) हैं. इन खदानों में दिनरात कई मजदूर पत्थर तोड़ते हैं. ताकि उनके हाथ कोई ऐसा पत्थर लग जाए जो बेशकीमती हो. खदान मालिक भी इसी उम्मीद में इन मजदूरों को वेतन देते हैं कि शायद खुदाई में कुछ ऐसा मिल जाए कि उनकी किस्मत बदल है. हाल ही में बोत्सवाना (Botswana) के एक खदान से एक मजदूर को दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा हीरा मिला है. ये पत्थर बेहद बड़ा है और इसकी कीमत तो सबसे ज्यादा लोगों का ध्यान खींच रही है.

इस बेशकीमती पत्थर को बोत्सवाना के जवानेंग खदान से निकाला गया है. इसका वजन 1 हजार 98 कैरट (1,098 Carat) का है. इसे अब तक दुनियाभर में मिले हीरों में तीसरा सबसे बड़ा हीरा बताया जा रहा है. अभी इसकी कीमत नहीं आंकी गई है लेकिन अनुमान के मुताबिक, इसकी कीमत अरबों में हो सकती है. जब विशाल पत्थर को वेट किया गया तो ये एक हजार कैरट से ज्यादा का निकला. इस हीरे को देबस्वाना माइनिंग कंपनी के मजदूर ने 1 जुलाई को ढूंढा. इस हीरे को बीते 50 सालों से खदान से निकले बेशकीमती खजानों में गिना जा रहा है.

अभी बेनाम है हीरा

हीरे को ढूंढने वाली कंपनी देबस्वाना डायमंड कंपनी (Debswana Mining Company) के मैनेजिंग डायरेक्टर लिनेट आर्मस्ट्रांग (Lynette Armstrong) के मुताबिक़, बीते 50 साल में ये खदान से निकाले गए सबसे बड़े हीरों में से एक है. अभी कंपनी के हीरा एक्सपर्ट इसकी क्वालिटी को एनालाइज कर रहे हैं. इसे अब तक मिले दुनियाभर के हीरों में तीसरा सबसे विशाल पत्थर माना जा रहा है. अभी तक हीरे को नाम नहीं दिया गया है. लेकिन उससे पहले ही ये बेनाम हीरा मशहूर हो गया है.देश के काम आएगा पैसा

मिस्टर आर्मस्ट्रांग के मुताबिक, अभी तक फैसला नहीं हुआ है कि ये हीरा सीधे खदान से बिकेगा या इसे स्टेट के जरिये बेचा जाएगा. हीरे को लेकर बोत्सवाना के राष्ट्रपति डॉ मोकग्वीटसी मसीसी (Dr Mokgweetsi Masisi) ने कहा कि उनकी कोशिश होगी की हीरे को ऐसे बेचा जाए कि इससे मिले पैसों का फायदा देश को हो. साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी पूरी कोशिश होगी कि आगे से एडवांस तकनीक के जरिये खदान में खुदाई का काम किया जाए. ताकि ऐसे छिपे अनेक बेशकीमती पत्थर मिल जाए. वहीं हीरे के मिलने के बाद बोत्सवाना के मिनरल मिनिस्टर ने कहा कि कोरोना के कारण देश की आर्थिक स्थिति खराब होने के बाद मिले इस पत्थर से देश को काफी मदद मिलेगी.

अफ्रीका में मिला था सबसे बड़ा पत्थर

बात अगर अभी तक दुनिया में मिले सबसे बड़े पत्थरों की करें तो साउथ अफ्रीका में मिला हीरा नंबर वन पर है. इसे द कुल्लिनन (The Cullinan) नाम दिया गया था. इसका वजन 3 हजार 106 कैरट था. साथ ही इसकी कीमत 1 खरब 44 अरब से ज्यादा थी. इसे कई छोटे-छोटे टुकड़ों में काटा गया था. इसमें सबसे बड़ा 530 कैरट का रहा जिसे इंग्लैंड भेजा गया था. इस लिस्ट में दूसरा सबसे बड़ा हीरा लेसेडी ला रोना Lesedi La Rona) था. इसे 2017 में ढूंढा गया था. इसकी कीमत 3 अरब 93 करोड़ 56 लाख से अधिक थी.





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment