चीन की यूनिवर्सिटी में पढ़ेगी ‘वर्चुअल स्टूडेंट’, इंसानों जैसे तीखे नैन-नक्श और तेज़ दिमाग

Share Now To Friends!!

चीन की यूनिवर्सिटी में वर्चुअल स्टूडेंट हुआ जिंगबिंग.

हुआ जिंगबिंग (Hua Zhibing) नाम की वर्चुअल स्टूडेंट ने चीन की यूनिवर्सिटी (Beijing’s Tsinghua University) में दाखिला ले लिया है. वो कैंपस के बाकी स्टूडेंट्स की ही तरह यहां के कम्प्यूटर साइंस विभाग ( Department of Computer Science and Technology) की छात्रा है.

दुनिया में चीन (China) एक ऐसा देश है, जो टेक्नॉलजी (Technology) के मामले में एक से बढ़कर एक अजीबोगरीब आविष्कार (Inventions of China) करता रहता है. हाल ही में वहां की यूनिवर्सिटी में (Beijing’s Tsinghua University) एक अनोखी स्टूडेंट ने दाखिला लिया है. इस स्टूडेंट की खासियत ये है कि वो असली नहीं है, साइंस की देन है. चीन की ये वर्चुअल स्टूडेंट ( AI-powered Virtual Student) इस वक्त चर्चा का विषय बनी हुई है.

हुआ जिंगबिंग (Hua Zhibing) नाम से इसका दाखिला चीन की राजधानी बीज़िंग की सिंगहुआ यूनिवर्सिटी (Beijing’s Tsinghua University) में कराया गया है. ये दूसरे छात्रों जैसी नहीं है, बल्कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से पावर्ड वर्चुअल स्टूडेंट ( AI-powered Virtual Student) है. वो देखने में हम जैसी ही है. उसकी आवाज़ भी इंसानों की तरह है और वो खुद का परिचय भी देती है.

कैसे मुमकिन हुआ ये कारनामा ?

इस वर्चुअल स्टूडेंट को चीन ने एक बेहद अनोखे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस मॉडलिंग सिस्टम वुडाओ 2.0 (Wudao 2.0.) से तैयार किया है. इसे चीन ने बीजिंग एकेडमी ऑफ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Beijing Academy of Artificial Intelligence) में इसी साल पेश किया था और चीन का दावा है कि ये अपना तरह का दुनिया में पहला मॉडल है. इसके जरिये मशीनें इंसानों की ही तरह सोच सकती हैं, बातों का जवाब दे सकती हैं. वे पेंटिंग और कविताएं भी लिख सकती हैं.कम्प्यूटर साइंस विभाग में पढ़ेगी वर्चुअल स्टूडेंट

वर्चुअल स्टूडेंट ( AI-powered Virtual Student) हुआ को कम्प्यूटर साइंस ( Department of Computer Science and Technology ) में दाखिला दिलाया गया है और उम्मीद की जा रही है कि वो सामान्य छात्रों की अपेक्षा जल्दी इसे सीखेगी. इस वक्त उनकी जिज्ञासा का स्तर 6 साल के बच्चे जैसा है और उम्मीद की जा रही है कि साल भर में ये 12 साल के बच्चे जितना हो जाएगा. हुआ की दिलचस्पी कविताएं लिखने, तस्वीरें बनाने और साहित्य में भी है. मज़े की बात ये है कि वो चीन के वीबो प्लेटफॉर्म पर अपने बारे में खुद ये सब बताती है.

ये भी पढ़ें- लड़के के तूफानी इस्तीफे को देख याद गए फैमिली मैन वाले श्रीकांत तिवारी, कहा- नौकरी से है नफरत 

इंसानों के काफी करीब ये अनोखी मशीन

वर्चुअल स्टूडेंट या फिर मशीन ही कह लें तो हुआ का AI सामान्य मशीनों से कहीं ज्यादा है. वो तर्क कर सकती है और भावनात्मक बातचीत भी कर सकती है. इसके क्रिएटर प्रोफेसर तांग बताते हैं कि उसका इमोशनल इंटेलिजेंस (Emotional Intelligence) काफी ज्यादा है और वो इंसानों की तरह बातचीत कर सकती है. चीन ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के मामले में पिछले सालों में काफी एडवांस तकनीक हासिल की है, फिर चाहे वो वर्चुअल न्यूज़ एंकर हों या फिर अब हुआ जैसी वर्चुअल स्टूडेंट.





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment