पाकिस्तान के एयरपोर्ट पर कुत्ते कर रहे हैं COVID-19 टेस्ट ! जानिए पूरा मामला

Share Now To Friends!!

स्निफर डॉग्स सूंघकर पता लगा रहे हैं कोरोना संक्रमण.

कोरोना वायरस (Coronavirus ) की वैक्सीन से लेकर टेस्टिंग बढ़ाने की क्षमता हर देश के आगे चुनौती बनी हुई है. वहीं पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) ने इसके लिए अलग ही तरीका निकाल रखा है. जहां दुनिया रिसर्च में लगी है, वहीं पाकिस्तान स्निफर डॉग्स (Sniffer Dogs) के ज़रिये कोरोना वायरस का टेस्ट कर रहा है.

दुनिया भर में कोरोना वायरस के टीके (Coronavirus Vaccination) और उसकी एडवांस टेस्टिंग (Coronavirus testing) को लेकर रिसर्च चल रही है तो वहीं पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) में कोविड-19 की जांच कुत्तों के ज़रिये की जा रही है. पाकिस्तान में कोरोना वायरस से जुड़े नए वेरिएंट के मामले बढ़ने के बाद सरकार कोरोना की जांच के लिए कुत्तों की मदद ले रही है. पेशावर के बचा खाना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर स्निफर डॉग्स कोरोना के स्वैब की जांच कर रहे हैं.

इन कुत्तों को (Coronavirus Detection Dogs)कोविड-19 की जांच के लिए खास तौर प्रशिक्षित किया गया है. विमान से उतरने वाले यात्रियों में संक्रमण की पहचान करने के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट भी हो रहा है. इसके अलावा स्निफर डॉग्स भी कोरोना का पता लगा रहे हैं. सबसे पहले लोगों का एंटीजन टेस्ट होता है और फिर वायरस का पता लगाने के लिए कुत्ते स्वैब सैंपल को सूंघते हैं.

एयरपोर्ट के अधिकारियों ने दी जानकारी

एयरपोर्ट के मैनेजर अब्दुल्लाह अब्बासी के मुताबिक एनसीओसी के अधिकारियों ने कहा है कि पेशावर हवाई अड्डे पर कोरोना वायरस की जांच के लिए अपनाए जा रहे तरीके संतोषजनक हैं. उन्होंने बताया कि लोगों में कोरोना की पहचान करने के लिए प्रशिक्षण के बाद स्निफर डॉग्स (Covid Sniffer Dogs) का इस्तेमाल किया जा रहा है. मैनेजर ने बताया कि अगर सैंपल सूंघने के बाद कुत्ता नीचे बैठ जाता है, तो इसका मतलब है कि यात्री कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित है. इस तरह से अब तक कुत्तों ने चार यात्रियों में वायरस की पहचान भी की है, जो लैब रिपोर्ट के बाद सही निकली. कुत्तों ने जिन लोगों में कोरोना संक्रमण की पहचान की है, उन्हें तुरंत क्वारंटीन करने के लए अस्पताल भेजा गया है.कुत्तों में है कोरोना संक्रमण का पता लगाने की क्षमता

मार्च में स्विट्ज़रलैंड में रिसर्चर्स ने स्निफर डॉग्स (Covid Sniffer Dogs) को लेकर एक ट्रेनिंग ट्रायल किया था. शिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक ये स्निफर डॉग्स जेनेवे यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल से प्रशिक्षित थे और चार हफ्ते बाद इन्हें जब टेस्ट के लिए स्वॉब सूंघने को दिया गया तो ये संक्रमितों का पता लगा सकते थे. फ्रांस और जर्मनी जैसे कुछ देशों में भी शुरुआती तौर पर इसकी पुष्टि की गई थी.





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment