मुंह में छाले से हो रहे हैं परेशान तो जानिए शरीर में किस विटामिन की हुई है कमी, इन बातों का रखें ख्‍याल

Share Now To Friends!!

What Causes Mouth Ulcers and How to Treat Them : शरीर को हेल्‍दी रखने में विटामिन्‍स (Vitamins) की महत्‍वपूर्ण भूमिका होती है. ये विटामिन्‍स आपके रोज के भोजन के माध्‍यम से ही शरीर की जरूरतों को पूरा करते हैं. लेकिन कई बार पर्याप्‍त खान पान के बावजूद कुछ छोटी मोटी समस्‍याएं हो जाती हैं जो हमें परेशान कर देती हैं. ऐसी ही एक समस्‍या है मुंह में छाले होना. हालांकि यह सुनने में बहुत ही सामान्‍य सी समस्‍या लगती है लेकिन जिन लोगों को अक्‍सर मुंह में छाले हो जाते हैं उनके लिए यह बहुत ही कष्‍टदायक एक्सपीरियंस होता है. हेल्‍थलाइन के मुताबिक, दरअसल इसके होने की मुख्‍य वजह शरीर में बी12 विटामिन, फॉलेट और जिंक की कमी है. छाले होने के अन्‍य कारण इसकी कुछ अन्‍य वजहों की बात करें तो  हेल्‍थलाइन के मुताबिक, पीरियड के दौरान हार्मोनल बदलाव, इमोशनल स्‍ट्रेस, नींद की कमी, बैक्‍टेरियल, वायरल या फंगल इंफेक्‍शन, माउथ बैक्‍टीरिया में कोई एलर्जी भी इसकी वजह हो सकते हैं. इसे भी पढ़ें : Work From Home: बढ़ गया है स्‍क्रीन टाइम तो इस तरह करें आंखों की देखभाल

 

कब करें डॉक्‍टर से संपर्क
अगर तुलना में अधिक बड़ा अल्‍सर हो, पुराना खत्‍म होने से पहले एक और अल्‍सर हो गया हो, तीन सप्‍ताह से ज्‍यादा पुराना अल्‍सर हो गया हो, लगातार दर्द रहता हो, लिप्‍स तक फैल गया हो, नेचुरल मेडिसिन से ठीक नहीं हो रहा हो, दर्द की वजह से फीवर या डायरिया हो रहा हो तो डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए. घर पर कैसे करें ठीक -नमक वाले पानी या बेकिंग सोडा से कुल्‍ला करें. -माउथ अल्‍सर पर बेकिंग सोडा पेस्‍ट लगाएं. -अल्‍सर पर बेन्‍जोकाइन (Benzocaine) वाले प्रोडक्‍ट लगाएं. -आइस लगाएं. -एस्‍टोराइड प्रोडक्‍ट से कुल्‍ला करें. इससे दर्द और सूजन में आराम मिलेगा. -पेस्‍ट लगाएं. -यूज किया हुआ टीबैग रखें. -फॉलिक एसिड, विटामिन बी6, विटामिन बी 12 और जिंक सेप्‍लीमेंट का सेवन करें. इसे भी पढ़ें : वेजिटेरियन हैं तो जरूर खाएं ये 6 प्रोटीन रिच फूड, जानें क्‍यों प्रोटीन है आपके लिए जरूरी किन बातों का ख्‍याल रखना जरूरी भोजन में एसिडिक चीजें जैसे पाइनएप्‍पल, अंगूर, ऑरेंज, नीबू आदि का सम्‍हल कर यूज करें. ऐसी चीजें अल्‍सर में जलन पैदा कर सकती हैं. इसके अलावा, चिप्‍स और मसालेदार भोजन से बचें. ओरल हाइजीन पर विशेष ध्‍यान देना बहुत ही जरूरी है. जितना हो सके आप खुद को टेंशन से दूर रखें और इमोशन को मैनेज करना सीखें. दिन में दो बार ब्रश जरूर करें और रात को भरपूर नींद लें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment