रईसों के इलाके में सालों से खाली पड़ी है जमीन, कौड़ियों के दाम भी खरीदने को तैयार नहीं कोई, ये है वजह

Share Now To Friends!!

प्रॉपर्टी खरीदना और बेचना (Property Dealing) दोनों ही आसान नहीं होता. इस बात को वही समझ सकता है, जो इसे बेचने के लिए खरीदार ढूंढ रहा हो या फिर खरीदने के लिए कोई अच्छी प्रॉपर्टी ढूंढ रहा हो. फिलहाल ब्रिटेन के ब्रिडजेंड (Bridgend) में एक प्रॉपर्टी के मालिक को भी इन्हीं हालात ये गुजरना पड़ रहा है. उन्होंने अपनी ज़मीन को बेचने के लिए 5 साल से ऑनलाइन प्रॉपर्टी सेलिंग साइट (Online property selling) पर डाल रखा है. फिर भी उन्हें कोई खरीदार आज तक नहीं मिला.

ब्रिडजेंड (Bridgend) इलाके के पार्क प्रिज़न ( Parc Prison) में ये ज़मीन मौजूद है. करीब 1.3 एकड़ की इस ज़मीन का रेट भी ज्यादा नहीं है. फिर भी इस ज़मीन को खरीदने के लिए कोई तैयार नहीं होता. ऐसा नहीं है कि खरीदार नहीं मिले. खरीदने के लिए लोग आए लेकिन इसका इतिहास (History of graves) जानकर उल्टे पांव लौट गए. फिलहाल ज़मीन को घोड़ों के अस्तबल के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है. अब तक ज़मीन मालिकों को भी उम्मीद नहीं है कि ये खरीदी जाएगी.

क्यों नहीं बिक पा रही ज़मीन?

आप भी सोच रहे होंगे, जब ज़मीन में सारी खूबियां मौजूद हैं तो भला इसे खरीदने कोई क्यों नहीं आता? दरअसल ये ज़मीन एक मानसिक रोगों के अस्पताल (Glamorgan County Lunatic Asylum) के बगल में मौजूद है. अब वो अस्पताल तो रहा नहीं, लेकिन इलाके में सभी को पता है कि इस ज़मीन में अस्पताल के उन मरीजों की कब्र है, जो इलाज के दौरान मर गए. इस ज़मीन में करीब 2000 मरीजों की कब्र है. यही वजह है कि इस जगह को खरीदने के लिए कोई आगे नहीं आता.

ये भी पढ़ें- NASA का दावा:  मंगल पर 1-2 नहीं हो सकती हैं दर्जनों झीलें, ठंड की वजह से जमा हुआ है पानी 

कब्रों को डिस्टर्ब नहीं करना चाहता कोई

Glamorgan County Lunatic Asylum नाम का ये अस्पताल साल 1887 में यहां था और 1958 तक चलता रहा. यहां इलाज के लिए आए लोगों में से जब किसी की मौत हो जाती थी, तो उन्हें यही दफ़न कर दिया जाता था. लोवेन रईस (Louvain Ree) नाम के इतिहासकार बताते हैं कि इस अवधि में यहां करीब 2000 लोगों को दफ़न किया गया. कुछ कब्रों में तो एक साथ कई लोग भी दफनाए गए थे. इस ज़मीन को बेचने वाले चाहते थे कि यहां हाउसिंग सोसायटी बनाई जाए, लेकिन जो भी बिल्डर्स आए वो इन कब्रों में सोए लोगों को डिस्टर्ब नहीं करना चाहते थे.

जिन लोगों के रिश्तेदारों को इन कब्रों में दफनाया गया है, वे चाहते हैं कि ये ज़मीन कभी नहीं बिके और यहां उन लोगों के लिए स्मारक बनाया जाए, जो यहां सोए हुए हैं. यहां रहने वाले लोग कहते हैं कि बारिश होने पर आज भी उन कब्रों को देखा जा सकता है. ऐसे में इस ज़मीन पर कुछ भी बनाने का मतलब है इन कब्रों में सो रहे लोगों को बाहर निकालना.

Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment