वो देश जहां 3000 रुपये दर्जन बिक रहा है केला, गरीबी की शिकायत करने पर सीधे मिलती है मौत!

Share Now To Friends!!

दुनिया भर में अपनी सनक के लिए मशहूर उत्तर कोरिया (North Korea Dictator) के तानाशाह किम जोंग उन (Kim Jong Un) को अच्छी तरह खबर है कि देश में खाने को दाना नहीं है, फिर भी उसकी अकड़ खत्म नहीं हो रही. कोरोनावायरस (Coronavirus) और तूफान के बाद उत्तर कोरिया (North Korea) के हालात ये हैं कि यहां खाने का अकाल पड़ा हुआ है. जो तानाशाह (Kim Jong Un)कभी गरीबी की बात नहीं करता था, उसने खुद बताया है कि देश में खाने की कमी है.

इसी बीच खबर ये भी है कि उत्तर कोरिया (North Korea) में इस कदर हालात खराब हैं कि एक केले (Banana Price Hike) की कीमत 440 रुपये तक पहुंच गई है. देश की राजधानी प्योंगयांग (Pyongyang) समेत कई हिस्सों में 3000 रुपये किलो की दर से केला बिक रहा है. उत्तर कोरिया में पहले ही 30 लाख लोगों की मौत भुखमरी से हो चुकी है और अब स्थितियां और भयानक हो रही हैं.

उत्तर कोरिया में गरीबी बताना गुनाह

भले ही यहां की जनता भूखी मर जाए लेकिन किसी की हिम्मत नहीं है कि वो गरीबी (Taking Pictures of Poors is Crime) के बारे में बात करे. इस देश में गरीबों की तस्वीर खींचना और उसे पब्लिश करना अपराध की श्रेणी में आता है. ऐसे में केला नहीं खाओ तो चलेगा, लेकिन ये बताना नहीं है कि आपके पास ये खरीदने के पैसे नहीं हैं

किम जोंग उन के राज में गरीबी की बात कहना भी गुनाह है.

कपड़े और हेयरस्टाइल भी तय करती है सरकार

इस देश में तानाशाह (North Korea Dictator) ही ये तय करता है कि आपको क्या पहनना है और कैसे दिखना है. मसलन नॉर्थ कोरिया में नीली जींस (North Korea Bans Denim) पहनने पर पाबंदी है. इसकी वजह है कि इसे अमेरिकी पहनावा माना जाता है. इतना ही नहीं सरकार की ओर से फाइनल किए गए 23-24 हेयस्टाइल (North Korea Hairstyle) में से ही एक आपको चुनना है. आप मर्जी से बाल नहीं कटवा सकते.

ये भी पढ़ें- कोरोना की  तेज लहर में बिना मास्क घूमता था शख्स, लोगों ने पकड़कर सिखाया ऐसा सबक 

देश में एक भुतहा शहर भी

नॉर्थ कोरिया के हैरान कर देने वाले फैक्ट्स में से एक ये भी है कि यहां किजोंग डांग (Ghost City in North Korea) नाम की एक मॉडल सिटी है. इसे नॉर्थ और साउथ कोरिया (South Korea) के बॉर्डर पर बनया गया है. बताते हैं यहां रहता कोई भी नहीं है, सिर्फ दक्षिण कोरिया को लुभाने के लिए ये शहर बनाया गया है.

आज भी नॉर्थ कोरिया में साल 109

पूरी दुनिया में वर्ष 2021 आग गया है, लेकिन नॉर्थ कोरिया में साल 109 चल रहा है. इसके पीछे की वजह भी दिलचस्प है क्योंकि यहां का कलैंडर इस देश ने पूर्व तानाशाह किम इल-सुंग की जन्मतिथि 15 अप्रैल 1912 पर आधारित है. उनके पैद होने के बाद ही ये कैलेंडर शुरू होता है.

ये भी पढ़ें- 123 दिनों से हथकड़ी में बंधा था कपल, टॉयलेट भी जाते थे साथ, लॉक टूटते ही प्यार का हुआ ऐसा अंजाम

गलती एक की, सज़ा 3 पीढ़ी को

तानाशाह के कुछ सनकी नियमों में से एक ये भी है कि यहां एक छोटी सी गलती की भयानक सज़ा होती है. सज़ा भी सिर्फ उसको नहीं मिलती, जिसकी गलती है. उस अपराधी की 3 पीढ़ियों को सजा भुगतनी होती है. आम तौर पर गोलियों से भून देना, भूखे कुत्तों के आगे डाल देने जैसी सज़ाएं यहां दी जाती हैं.

फिल्म बनाने के लिए डायरेक्टर को किया अगवा

देश में 1990 से यह आवश्यक है कि सभी शिक्षकों को अकॉर्डियन  (हारमोनियम जैसा यंत्र) आना चाहिए. इस देश का लगभग हर नागरिक को ये यंत्र बजाना आता है. दिलचस्प बात तो ये भी है कि यहां के तानाशाह किम जोंग इल ने एक बार एक डायरेक्टर को उत्तर कोरिया की तारीफ करने वाली फिल्म बनाने के लिए अगवा कर लिया. वो तो भला हुआ कि डायरेक्टर किसी तरह भाग निकला.

Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment