हर रोज 40 रुपये बचाकर बना सकते हैं 8 लाख, ये है अमीर बनाने वाली स्कीम

Share Now To Friends!!

कोरोना दुनिया भर में डर फैला रहा

बाजार में ऐसे कई म्यूचुअल फंड ((Mutual Fund) हैं, जिसने पिछले 15 साल में 15 फीसदी सालाना की दर से रिटर्न दिया. अगर इतना ही रिटर्न आपको मिलता रहे तो 15 साल बाद आपके पास 8 लाख रुपये का फंड तैयार हो जाएगा.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    February 23, 2020, 6:13 PM IST

नई दिल्ली. अक्सर लोग ऐसा सोचते हैं कि कम पैसों के जरिए अमीर नहीं बना जा सकता, लेकिन ऐसा नहीं है. आप रोजाना कुछ पैसे बचाकर निवेश करना शुरू करें, तो एक तय समय के बाद आप लखपति बन सकते हैं. आपको लखपति बनाने में म्यूचुअल फंड (Mutual Fund) की स्कीम आपकी मदद करेगी. अच्छी बात यह है कि आप रोजाना 40 रुपये की बचाकर आप मोटा फंड जोड़ सकते हैं. ऐसा करने से आपके ऊपर ज्यादा बोझ भी नहीं पड़ेगा और अपने सभी खर्चों के बाद भी आसानी से इतनी बचत कर सकते हैं.

आइए जानते हैं 40 रुपये की रोज बचाकर कैसे बना सकते हैं 8 लाख रुपये का फंड….

ऐसे बनेगा 8 लाख का फंड
अगर आप रोजाना के आधार पर 40 रुपये की बचत करते हैं, तो यह महीने में 1,200 रुपये होगा. आपको हर महीने 1,200 रुपये बेहतर म्यूचुअल फंड की स्कीम में SIP के जरिए निवेश करना होगा. यह निवेश आपको 15 साल तक करना होगा. बाजार में ऐसे कई म्यूचुअल फंड हैं, जिन्होंने पिछले 15 साल में 15 फीसदी सालाना की दर से रिटर्न दिया. अगर इतना ही रिटर्न आपको मिलता रहे तो 15 साल बाद आपके पास 8 लाख रुपये का फंड तैयार हो जाएगा.ये भी पढ़ें: पैसे जमा करने और खाते से जुड़ी SMS सर्विस के लिए SBI वसूलता है इतने रुपये!

कितना होगा फायदा
अगर आप किसी म्यूचुअल फंड स्कीम में 15 साल तक निवेश करते हैं तो आपका कुल निवेश 2,16,000 रुपये होगा. वहीं आपकी एसआईपी की कुल वैल्यू 8,02,208 रुपये होगी. यानी आपको 5,86,208 रुपये का फायदा होगा.

इन फंड ने दिए हैं 15% रिटर्न
म्यूचुअल फंड रिटर्न की बात करें तो कुछ बेहतर स्कीम्स ने 15 साल में 15 फीसदी रिटर्न दिए हैं. आदित्य बिड़ला सन लाइफ इक्विटी फंड में 15 साल में 15.20 फीसदी, डीएसपी इक्विटी ऑपर्चुनिटी फंड में 14.67 फीसदी, फ्रैंकलिन इंडिया प्राइमा फंड में 15.07 फीसदी का रिटर्न मिला है.

ऐसे निकाल सकते हैं एक्सपेंस रेश्यो
यह रेश्यो (अनुपात) है जो म्यूचुअल फंड के प्रबंधन (मैनेजमेंट) पर आने वाले खर्च को प्रति यूनिट के रूप में बताता है. किसी म्यूचुअल फंड का एक्सपेंस रेश्यो निकालने के लिए उसकी कुल संपत्ति (एसेट अंडर मैनेजमेंट यानी AUM) में कुल खर्च से भाग दिया जाता है.

ये भी पढ़ें:  मार्च से बढ़ सकती हैं AC, फ्रिज और मोबाइल की कीमतें, इतने रु ज्यादा होंगे खर्च





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment