FILM REVIEW: गले के इर्द-गिर्द कस जाती है ‘कॉलर बॉम्ब’

फिल्म की सफलता के लिए जरूरी है कि दर्शक उस फिल्म के किसी एक प्रमुख किरदार से नाता जोड़ लें. कभी हीरो पर होने वाला अत्याचार, कभी विलेन का अतरंगी किरदार, कभी हीरोइन की खूबसूरती या कभी किसी किरदार की फिल्म में पूरी यात्रा. वहीं, कभी-कभी ऐसी फिल्म आ जाती है, जिसके किसी भी किरदार …

Read moreFILM REVIEW: गले के इर्द-गिर्द कस जाती है ‘कॉलर बॉम्ब’

वर्क फ्रॉम होममुळे सायबर हल्ल्यांमध्ये वाढ, फायनान्शिल स्टॅबिलिटी बोर्डाचा अहवाल

मुंबई : कोरोना कालावधीत सर्वाधिक चर्चा झाली आणि होतेय ती म्हणजे वर्क फ्रॉम होम अर्थात घरून काम करण्यासंदर्भात. मागील वर्षी मार्च महिन्यात पहिल्यांदा लॉकडाऊनची घोषणा झाली तेव्हापासून देशातील लाखो लोक घरून काम करत आहेत. याचाच फायदा जगभर सायबर चोरटे घेत असून सायबर हल्ल्याच्या प्रमाणात वाढ झाल्याचा धक्कादायक अहवाल जी -20 देशाच्या आर्थिक नियमांचे समन्वय करणाऱ्या …

Read moreवर्क फ्रॉम होममुळे सायबर हल्ल्यांमध्ये वाढ, फायनान्शिल स्टॅबिलिटी बोर्डाचा अहवाल

Aanum Pennum Review: हर युग में स्त्री की समान स्थिति पर बनी है ‘आनुम पेन्नुम’ की तीनों कहानियां

Aanum Pennum Review: मलयालम फिल्मों में हमेशा कोई न कोई नया एक्सपेरिमेंट होते रहता है. न सिर्फ कहानी के स्तर पर बल्कि कहानी कहने के अंदाज़ पर भी. एन्थोलॉजी यानि एक फिल्म में एक ही थीम पर 3 या अधिक छोटी फिल्मों का समावेश. पिछले कुछ सालों में ये ट्रेंड वापस आया है, बॉम्बे टॉकीज़, …

Read moreAanum Pennum Review: हर युग में स्त्री की समान स्थिति पर बनी है ‘आनुम पेन्नुम’ की तीनों कहानियां