Corona news-  कोविड हेल्‍पलाइन पर 60 फीसदी कॉल पोस्‍ट कोविड मरीजों की, जानें उनकी परेशानी?  

Share Now To Friends!!

कॉल करने वाले केवल 10 फीसदी कोरोना मरीज. सांकेतिक फोटो

कोरोना से ठीक हो चुके लोग दूसरी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. कोविड हेल्‍पलाइन पर फोन करने वाले आधे से अधिक पोस्‍ट कोविड मरीज होते हैं. जिन्‍हें कोरोना के बाद शुगर बढ़ जाना, नींद न आना, भूख कम लगना, शरीर में बार-बार दाने पड़ना, दम फूलने जैसी परेशानी आ रही है.

नई दिल्‍ली. दिल्‍ली और एनसीआर में कोरोना मरीजों (Corona Patient) की मदद के लिए बनाए गए कोविड हेल्‍पलाइन (covid Helpline) या कोविड कंट्रोल (covid control room) रूप में मौजूदा समय आने वाली कॉल में आधे से ज्‍यादा कोरोना के बाद होने वाली बीमारियों से परेशान लोगों की आ रही हैं, जिनमें पोस्‍ट कोविड लक्षण दिख रहे हैं. इसके अलावा कुल आने वाली कॉल में कोरोना मरीजों की कॉल 10 फीसदी ही होती हैं. बची हुई कॉल वैक्‍सीन को लेकर या कोरोना से संबंधित अन्‍य परेशानियों के लिए की जा रही हैं.

दिल्‍ली के कोविड हेल्‍पलाइन पर औसतन रोजाना 1600 से अधिक कॉल आ रही हैं. हेल्‍पलाइन से जुड़े डॉक्‍टरों के अनुसार इनमें से 170 के करीब कॉल कोरोना मरीजों की होती हैं. यानी कुल आने वाली कॉल में केवल 10 फीसदी ही कोरोना मरीजों की हैं. बची हुई 90 फीसदी कॉल में से 60 फीसदी के करीब पोस्‍ट कोविड से परेशान लोगों की होती हैं. ये 60 फीसदी लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं लेकिन अब तरह-तरह  की बीमारियों से परेशान हैं. इनमें कई ऐसे पोस्‍ट कोविड मरीज हैं जो कोरोना के गंभीर संक्रमण की चपेट में आने  के बाद अब मानसिक रूप परेशान हो रहे हैं. हेल्‍पलाइन से इन्‍हें काउंसिलिंग भी की जाती है.

वहीं, गाजियाबाद के कोविड कंट्रोल रूप की प्रभारी डा. रुचि बताती हैं कि कोरोना के मरीजों की कॉल पहले के मुकाबले बहुत ही कम हो गई हैं लेकिन लोगों के कॉल आनी कम नहीं हुई हैं.  कोरोना से ठीक हो चुके मरीज कॉल कर अपनी समस्‍या बता रहे हैं या फिर वैक्‍सीन के बारे में पूछ रहे हैं. गाजियाबाद में पोस्‍ट कोविड बीमारियों से परेशान मरीजों की संख्‍या 60 फीसदी से अधिक हैं.

इस तरह की आ रही हैं पोस्‍ट कोविड समस्‍या हेल्‍पलाइन पर आने वाली कॉल में जो मरीज समस्‍या बता रहे हैं , उसमें कोरोना के बाद शुगर बढ़ जाना, नींद न आना, भूख कम लगना, शरीर में बार-बार दाने पड़ना, दम फूलना या अस्‍थमा की शिकायत होना, जल्‍दी थकान लगना, शरीर में दर्द होना, ज्‍यादातर मोबाइल या लैपटॉप पर बैठने से आंखों पर भारीपन होना जैसे समस्‍या मरीज हेल्‍पलाइन पर बता रहे हैं.





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment