FILM REVIEW: अक्सर-2 की सिर्फ कहानी दिलचस्प, स्क्रिप्ट कमजोर

Share Now To Friends!!

अक्सर-2 फिल्म समीक्षा

अक्सर-2 फिल्म समीक्षा

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 17, 2017, 2:54 PM IST

अक्सर-2 साल 2006 में आई अक्सर का सीक्वल है. ये न सिर्फ टीवी एक्टर गौतम रोडे की बॉलीवुड डेब्यू फिल्म है, बल्कि इसी फिल्म से क्रिकेटर श्रीसंत भी बॉलीवुड डेब्यू कर रहे हैं. वह फिल्म में एक वकील की भूमिका में हैं. इसके अलावा अभिनव शुक्ला, जरीन खान और मोहित मदान फिल्म में अहम किरदार निभा रहे हैं.

अनंत महादेवन के निर्देशन में बनी इस फिल्म से क्या उम्मीदें लेकर आप थियेटर में जाते हैं, ये पूरी तरह आपके हाथ में है. वजह ये है कि फिल्म ज्यादातर मामलों में निराश ही करती हैं. हालांकि कहानी काफी दिलचस्प और मनोरंजक है, लेकिन इस कहानी के संवाद और अदायगी बहुत कमजोर है. कुछ जगह पर गौतम रोडे और जरीन खान की एक्टिंग प्रभावित जरूर करती है.

साल 2006 में आई अक्सर एक म्यूजिकल हिट साबित हुई थी. इसके गाने झलक दिखला जा और सोनिए आज भी पॉपुलर हैं. मगर अक्सर-2 ऐसा कोई भी असर छोडऩे में कामयाब नहीं हो पाती है.

फिल्म की शुरुआत होती है मिसेज खंबाटा के साथ. इस रोल को निभाया है लिलेट दुबे ने. मिसेज खंबाटा एक अरबपति महिला है. उसके मैनेजर पैट के रोल में हैं गौतम रोडे. मिसेज खंबाटा को एक केयरटेकर की जरूरत है. वह चाहती हैं कि कोई उम्रदराज महिला इस काम के लिए नियुक्त की जाए.पैट को केयरटेकर ढूंढने की जिम्मेदारी सौंपी गई है. मगर उनके पास किसी उम्रदराज महिला की बजाय जरीन खान की एप्लीकेशन पहुंचती है. जरीन फिल्म में शीना का रोल निभा रही हैं, जो पेशे से नर्स है. उसकी एप्लीकेशन लेकर जब मैनेजरट पैट मिसेज खंबाटा के पास जाता है, तो वह उसे खारिज कर देती हैं. मगर पैट उन्हें शीना को एक मौका देने के लिए किसी तरह राजी कर लेता है.

यहीं से कहानी में ट्विस्ट आता है. शीना को अंदाजा भी नहीं होता कि इस पैरवी के लिए उसे आगे क्या कीमत चुकानी पड़ेगी. नौकरी दिलाने के बदले पैट शीना से अपनी हर बात मनवाता है.उसके मना करने पर उसे नौकरी से निकालने की धमकी देता है.

शीना को मजबूरी में उसके सारे फेवर मानने पड़ते हैं, क्योंकि उसका ब्वॉयफ्रेंड रिक्की बुरे हालात में हैं. लेकिन कुछ समय बाद ही पैट के हालात भी खराब हो जाते हैं. वह एक स्कैंडल में फंस जाता है, जिससे उसकी जिंदगी और करियर दोनों बर्बाद हो जाते हैं.

इसके बाद शीना का क्या होता है? पैट किस तरह बचता है? मिसेज खंबाटा क्या करती हैं? इसी तरह के सवालों के जवाब ढूंढते हुए फिल्म का एंड हो जाता है.

ये भी पढ़ें
FILM REVIEW: बिंदास सपने देखने वाली हाउस वाइफ है ‘तुम्हारी सुलु’

डिटेल्ड रेटिंग

कहानी:
स्क्रिनप्ल:
डायरेक्शन:
संगीत:





Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment