Luka Chuppi Movie Review: इस फिल्म को अपने कंधो पर बहुत दूर ले जाते हैं कार्तिक आर्यन

Share Now To Friends!!

निर्देशक लक्ष्मण उतेकर की फ़िल्म लुक छुप्पी हमे सीधे मुद्दे पर लाती है और मुद्दा है कि भारत के छोटे शहरों में लिव-इन में रहना आज भी एक टैबू है और लोग ऐसे किसी कपल को देख आँखे तरेर लेते हैं. फिल्म में मौजूद स्टार और यूथ आइकॉन नदीम खान भी अनजाने में भारतीय संस्कृति के खिलाफ कुछ बातें बोल कर अचानक से लोगों के निशाने पर आ जाता है. दिलचस्प बात है कि लिव-इन रिलेशनशिप्स पर पहले अर्थ, सलाम नमस्ते और शुद्ध देसी रोमांस जैसी फिल्में बन चुकी हैं लेकिन बॉलीवुड में ऐसी फिल्में कम ही हैं.

लुका-छुप्पी भी दो छोटे शहरों की कहानी है, मथुरा और ग्वालियर की पृष्ठभूमि पर बनी ये कहानी इसके लीड हीरो गुड्डू (कार्तिक आर्यन) और रश्मि (कृति सैनॉन) के आसपास घूमती है. गुड्डू एक लोकल केबल चैनल का निडर रिपोर्टर है और एक पत्रकार बनने की चाहत रखने वाली रश्मि तब मुसीबत में आते हैं जब वो लिव इन में रहने का फैसला करते हैं.

फिल्म रिव्यू – जानिए कैसी है सोनचिड़िया 

संस्कृति रक्षा मंच और अपने ही घरवालों से बचने के लिए गुड्डू और रश्मि तरह तरह के बहाने और प्रपंच रचते हैं और अपने रिलेशन को छिपाने की कोशिश करते हैं. कैमरामैन और दोस्त अब्बास (अपारशक्ति खुराना) की मदद से अपने प्यार को छिपाते बचाते गुड्डू और रश्मि की कहानी है ‘लुका छुप्पी’.असल ज़िंदगी में भी इस मुद्दे पर देशभर के न्यूज़ एजेंसियो ने सर्वे किए हैं और इसके प्रति लोगों में भी जागरुकता आई है, पर अभी भी लिव इन एक अनसुलझी सी चीज़ है. रोहन शंकर का स्क्रीनप्ले इस मुद्दे में गहरा नहीं उतरता, असल ज़िंदगी में जिस तरह से प्यार करने और साथ रहने वालों का मुंह काला किया जाता है या उन्हें पीटा जाता है, फिल्म इस मामले में थोड़ी हल्की रहती है. फिल्म लोगों के नज़रिए से ही इस मुद्दे को देखने की कोशिश करती है.

फिल्म में एक गुरुजी हैं जो राधा कृष्ण की कहानी से लिव इन को जोड़ते हैं और एक दादी मां हैं जो अपने ज़माने के खुलेपन और लॉजिक की बात करते हैं लेकिन इसके बाद शंकर चीज़ों को सतह पर ही रखते हैं और कॉमेडी के आसान रास्ते को चुनते हैं क्योंकि वो ऑडियंस को समझते हैं. लेकिन फिल्म को कॉमिक एलिमेंट से उपर ले जाने में वो कमज़ोर रह जाते हैं.

पंकज त्रिपाठी द्वारा निभाए गए किरदार बाबूलाल को और बड़ा किया जा सकता था और उनके द्वारा बोले गए मुख्य सवांद भी उतना प्रभावित नहीं करते जितना वो फुकरे में करते हैं. किस्मत की बात है कि कहानी अपनेआप में आपको कॉमेडी क्रिएट करने के मौके देती है. एक तांक झांक करता पड़ोसी, एक शैतान भतीजा जो राज़ जानता है. साथ ही फिल्म के लीड किरदार भी अपना काम बखूबी निभाते हैं.

चाहे दोस्त के किरदार में अपारशक्ति खुराना हों या लड़की के पिता के किरदार में राजनीतिक रसूख रखने वाले विनय पाठक और भले ही पंकज के किरदार का काम कमज़ोर है, उनका पर्दे पर आना ही आपको हंसा देगा.

बरेली की बर्फी के बाद अब मथुरा की लड़की का किरदार निभाती कृति के अंदर पहले से ज्यादा आत्म विश्वास आया है. लेकिन फिल्म की जान हैं कार्तिक आर्यन. प्यार का पंचनामा और सोनू के टीटू की स्वीटी जैसी फिल्मों में अपनी कॉमेडी की धाक जमा चुके कार्तिक ने इस फिल्म से साबित कर दिया है कि कॉमेडी के मामले में वो बेस्ट हैं.

लक्ष्मण उतेकर निर्देशकों की लिस्ट में नए हैं और उनका काम अच्छा है. छोटे शहरों की कहानियों को कहने का नया चलन है और ये कहानियां हिट भी हो रही हैं – लुका छुप्पी भी इसी कड़ी में एक नाम है. इस फिल्म में वो बात है जो लिव इन के मुद्दे पर फिर से बहस छेड़ सकती है, बहस, जिसकी ज़रुरत भी है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

Source link


Share Now To Friends!!

Leave a Comment